Assam Flood : असम में बाढ़ से लाखों लोग हुए तबाह, 89 लोगों ने गंवाई जान

Assam Flood: ब्रह्मपुत्र और बारक नदियों का बढ़ता हुआ जलस्तर असम में बाढ़ की स्थिती बद से बदतर कर रहा है क्योंकि और इलाके भी बाढ़ की चपेट में आ रहे हैं। अब तक 32 जिले के 55 लाख लोगों को बाढ़ का सामना करना पड़ा है, जिससे उनका जीवन प्रभावित हो रहा हैं। अधिकारियों के अनुसार मई के मध्य से अब तक दो चरणों में आई बाढ़ की वजह से 89 लोगों अपनी जान से हाथ धो बैठे है।

मुख्यमंत्री हिमंता बिस्व सरमा ने बुधवार को ट्रेन से नगांव का दौरा किया ताकि जिले में बाढ़ की स्थिती का आकलन किया जा सके। अधिकारियों के अनुसार सरमा का वहां के कुछ राहत शिविरों में भी जाने का कार्यक्रम था। अधिकारियों के अनुसार नगांव बाढ़ से पूरी तरह से प्रभावित हुआ है और करीब 4 लाख 57 हजार 381 लोग की जिंदगी प्रभावित हुई हैं, जिनमें से 15 हजार 188 लोगों ने 147 राहत शिविरों में शरण ली है।

सरकार की तरफ से हरसंभव मदद का भरोसा

सरकार की तरफ से हरसंभव मदद का भरोसा लोगों को दिया गया। जिला प्रशासन को प्रभावित लोगों को पर्याप्त राहत सामग्री सुनिश्चित करने का और तैयार रखने का निर्देश दिया गया है। अधिकारियों के अनुसार बराक घाटी के तीन जिलों कछार, करीमगंज और हैलाकांडी में स्थिती गंभीर बनी हुई है क्योंकि बराक और कुशियारा नदियों का जलस्तर लगातार बढ़ता जा रहा है और घाटी के बड़े हिस्से को अपनी चपेट में ले रहा है।

ये भी पढें:Draupadi Murmu : कौन है NDA की राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू? जानें इनका राजनैतिक सफर

Assam बाढ़ ने करा लाखों लोगों को प्रभावित

राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (NDRF) के कर्मी कछार जिले में लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने में लगे हुए हैं, जबकि राष्ट्रीय आपदा मोचन बल को और अन्य एजेंसियों को बाकी के दो जिलों में तैनात करा गया है। कछार जिले में 2,16,851 लोग बाढ़ से प्रभावित हुए हैं। वहीं पर करीमगंज में 1,47,649 और हेैलाकांडी में 1 लाख लोग बाढ़ से प्रभावित हुए हैं।

ये भी पढें:UPSC Prelims Result 2022 Declared : यूपीएससी सिविल सर्विसेज प्रीलिम्स रिजल्ट हुआ जारी

Leave a Comment